Header Ads

  • BREAKING NEWS

    चिराग पासवान की दोहरी निति के वजह से नितीश कुमार हो सकते है सत्ता से दूर

     



    We News 24 Hindi »पटना

    अमिताभ मिश्रा की रिपोर्ट  


    बिहार :विधानसभा चुनाव  में नितीश कुमार के लिए मुश्किलें पैदा कर सकती है लोक जनशक्ति पार्टी क्योकि वो  पहली बार अकेले चुनाव लड़ रही है . लोजपा की चुनावी रणनीति भी बिल्कुल साफ है। वह केंद्र में एनडीए का हिस्सा है, पर बिहार में एनडीए का हिस्सा नहीं है वो  अकेले चुनाव लड़ रही है। सिर्फ इतना ही नहीं, वह एनडीए के एक घटक के खिलाफ चुनाव लड़ रही है, तो उसे दूसरे दल के समर्थन में वोट मांगने से भी परहेज नहीं है।


    ये भी पढ़े-जाने कैसे जेल से सता तक का सफर तय किये रामविलास पासवान ,पढ़े- उनके बारे में


    लोक जनशक्ति पार्टी बिहार विधानसभा चुनाव में एक तीर से दो निशाने साध रही है। जेडीयू के खिलाफ मोर्चा खोलकर लोजपा सरकार विरोधी वोट में सेंध लगाना चाहती है, वहीं उसकी कोशिश है कि इन सीट पर भाजपा समर्थक वोट उसके पाले में आ जाए ताकि जेडीयू को झटका लग सके। वर्ष 2015 के चुनाव में कई ऐसी सीट थी, जहां भाजपा ने बहुत अच्छा चुनाव लड़ा था, पर वह जेडीयू से हार गई। ऐसी सीट अपना दबदबा बनाए रखना जेडीयू के लिए मुश्किल होगा।

    ये भी पढ़े-केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान 74 वर्ष में निधन ,चिराग ने लिखा आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ है।

    पार्टी की इस रणनीति से जेडीयू की सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला हो जाएगा। लोजपा अपनी रणनीति के मुताबिक भाजपा समर्थक मतदाताओं को अपनी तरफ करने में सफल रहती है, तो जेडीयू को सीधा नुकसान होगा और उसे भाजपा के सहयोगी होने का लाभ नहीं मिलेगा। इस स्थिति में सरकार के खिलाफ नाराजगी अहम भूमिका निभाएगी। लोजपा इसमें से कुछ वोट हासिल करने में सफल रहती है, तो वह जीत की दहलीज तक पहुंच सकती है।

    ये भी पढ़े-जिला परिषद फंड से किया स्कूल के रास्ते का निर्माण


    बिहार में भाजपा लंबे वक्त से जेडीयू के साथ नंबर दो की पार्टी बनी हुई है। पिछले चुनाव में जेडीयू के राजद के साथ जाने से भाजपा की उम्मीद जगी थी, पर जेडीयू फिर एनडीए में वापस आ गई। ऐसे में लोजपा का जेडीयू के खिलाफ चुनाव लड़ना भाजपा के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। क्योकि, लोजपा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उप्लब्धियों का जिक्र करेगी।



     लोजपा चुनाव प्रचार में खुद को भाजपा के साथ खड़ी दिखाना चाहती है। इसलिए, पार्टी लगातार यह कह रही है कि चुनाव के बाद भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाएगी। लोजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हमारा भाजपा के साथ कोई मतभेद नहीं है। प्रचार के दौरान लोजपा पूरी कोशिश करेगी कि भाजपा के साथ रिश्तों पर किसी तरह का कोई असर नहीं पड़े।


    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें

     

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad