Haider Aid

  • Breaking News

    सीतामढ़ी नगर परिषद :एक साल पहले लाखो रूपये में खरीदे गए चलंत शौचालय की जर्जर हालत ,जनता की पैसे की बर्वादी जिम्मेदार कौन ?


    We
     News 24 Hindi »बिहार/राज्य
    सीतामढ़ी/संवाददाता रोहित ठाकुर की रिपोर्ट

    सीतामढ़ी :जिला 2018 में ODF  घोषित हुआ पर पे घोषणा मूलतः कागजो पर ही है और ये पूर्व जिला अधिकारी डॉ रंजित कुमार सिंह के समय में हुआ था  | जो यह मात्र घोषणा के ही तौर पर रह गया | आज के दिन में भी कई गाँव कई मोहल्ले में लोगो के घरो में शोचालय नहीं है और लोग बाग़ खुले में शोच करने को मजबूर है | 


    ODF अभियान के तहत

    इसी ODF अभियान के तहत सीतामढ़ी नगर परिषद ने जिनके घरो में शोचालय नहीं  है और वो खुले में शौच करने  नहीं जाए इसके लिए शहर के अलग-अलग जगहों के लिए वर्ष 2019 में 10 चलंत शोचालय  की खरीद की थी  शौचालय  की कीमत तक़रीबन 6 से 7 लाख रुपया है | 10  शोचालय का कीमत लगभग 60 से 70 लाख रुपया हो होता है | 

     इसे खरीदे एक साल भी नहीं हुआ है | पर  इसका रख रखाव की चिंता किसी को नहीं है | जिले के वरीय अधिकारी से लेकर नगर परिषद के अधिकारी नागरिक सुविधा का ख्याल रखने में फिसड्डी साबित हो रही  हैं। नागरिक सुविधा के लिए हर वर्ष नगर विकास विभाग करोड़ों रुपये की राशि आवंटित करती है। 

    ये भी पढ़े -सीएम नीतीश ने अधिकारियों को दिए निर्देश, कहा- कोरोना के खिलाफ लड़ाई में प्रशासन को विधायकों से भी सुझाव लेना चाहिए



    जितने अधिकारी आए सबने यंत्र पर दिया जोर

    नागरिक सुविधा का नजर अंदाज इस कदर है कि अब तक जितने भी अधिकारी नप में आए सबों ने संयंत्रों की खरीद पर ही ज्यादा जोर दिया। इसका प्रमाण नगर परिषद स्थित चलंत शोचालय और डस्टबिन वितरण और आउटसोर्सिंग के द्वारा NGO के मार्फ़त शहर की साफ साफ सफाई का कार्य दे रहा है। कथित तौर पर मोटे कमीशन के लालच में अधिकारी  और ना जाने कौन-कौन सरकार की राशि को बंदरवांट करने में लगे हैं। सूत्रों की मानें तो पोर्टल के तहत भी नगर परिषद् सीतामढ़ी  में जितने संयंत्रों को मुहैया कराया गया वह एक ही एजेंसी से खरीद कर लिया गया है जो जांच का विषय है।

     ये भी पढ़े-सीएम नीतीश का निर्देश, कहा- बिहार के सभी जिलों में मौसम के अनुरूप होगी खेती

    आप उपर दिए गए तस्वीर में देखे की किस प्रकार जनता के पैसो से खरीदे हुए चलंत शोचालय की जर्जर अवस्था में है किसी का छत  नहीं तो किसी का पहिया नहीं किसी का वास वेसिन टुटा हुआ है |


    आखिर में आपको बताते चले की पिछले साल बड़ी चमक दमक के साथ शहर में मूत्रालय और  बड़े-बड़े स्टेंड डस्टबिन लगाये  गए थे जो अब शहर में कही-कही दिखाई दे रही  है औरबांकी जगहों से इसे हटाकर नगर परिषद के परिसर में रखा गया है | जो आज एक शोभा की वस्तु बनी हुई है |अगर इसे हटाना ही था तो लगाया  ही क्यों ?

    ये भी पढ़े -सीतामढ़ी नगर परिषद का खुल रहा पोल ,आउटसोर्सिंग टेंडर में है बड़ा झोल झाल


    जैसा की हमने अपने पिछले खबर में बताया की सीतामढ़ी नगर परिषद की पोल खोल कार्यकर्म की शुरुआत किया है | आज तीसरा कड़ी है आगे फिर नये खुलासे के साथ फिर मिलगे इसे आप पढ़े ही नहीं इसके खिलाफ आवाज भी उठाये अगर आपके पास भी इससे सम्न्धित कोई समस्या या सुझाव है या जिले में किसी अधिकारी या 
    कर्मचारी के द्वारा किसी भी कार्य के लिए  पैसो की मांग की गयी हो तो निचे दिए गए नंबर पर आप सम्पर्क करे | 

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।


    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad