Header Ads

  • BREAKING NEWS

    VIDEO:रिगा चीनी मिल को बंद करने की साजिश,40 हजार किसानों का 185 करोड़ बकाया,किसानों की बेचैनी बढ़ी


    We News 24 Hindi »बिहार/सीतामढ़ी 

    ब्यूरो संवाददाता संजू गुप्ता के साथ रोहित ठाकुर की रिपोर्ट 

    सीतामढ़ी :और शिवहर जिले का मात्र इकलौता रीगा चीनी मिल जो जिले का शान मना जा रहा था आज उसे को बंद करने की चल रही है साजिश 40 हजार किसानों का 185 करोड़ बकाया को लेकर किसानों की बेचैनी बढ़ी। किसानों की गन्ना मूल्य का भुगतान नहीं होने से परेशान किसान गन्ने की खेती छोड़ दुसरे चीजो की खेती में जुट गए ।

     2018-19 के सत्र में जहां 46 लाख क्विटल गन्ने की पेराई हुई थी वहीं इस बार 2019-20 में आधा से भी कम मात्र 20 लाख क्विटल पेराई हई है। जो पेराई अप्रैल में बंद होती थी वो इस बार समय से दो माह पहले  27 फरवरी को ही बंद हो गया। 40 हजारों किसान इसी मिल पर निर्भर है। चीनी मिल के संकट में पड़ने के अंदेशे से किसानों में हाहाकार नाच गया  है। 

    संयुक्त किसान संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष प्रो. आनंद किशोर ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाई है। मिल को बंद होने से बचाने के लिए हस्तक्षेप की मांग की है।  किसान संघर्ष मोर्चा का कहना है कि मिल की साजिश से मिल से जुड़े 40 हजार किसानों, सैकड़ों मिल कर्मचारियों का जीवन तथा चीनी मिल संकट में है। 

    मिल प्रबंधन गन्ना मूल्य का करीब 115 करोड़ तथा लिमीट (केसीसी) के 70 करोड़ रुपये का भुगतान नहीं कर रहा है। जबकि, केसीसी के लिए बैंक का गारंटर बनकर मिल प्रबंधन के द्वारा गन्ना आपूर्ति के साथ मूलधन तथा ब्याज भुगतान की गारंटी की गई थी। मगर, चीनी मिल, किसानों तथा कर्मचारियों के प्रति मिल मालिक की मंशा अब ठीक नहीं लगती। नए सत्र में करीब 60 करोड़ का बकाया हेतु किसान दर-दर भटकने को विवश है । 

    आपको बताते चले की सालो से मिल प्रबंधन किसानो से मिल की आर्थिक स्थिति का रोना रो कर  किसनो का भुगतान रोक रखा है मिल के मुख्य प्रबंध निदेशक ओमप्रकाश धानुका व सुशील कुमार गोयनका है  | 

    आज इसी विषय को लेकर हमारे संवाददाता किसानो से और नेताओ से बात की तो आगे सुनिए भुगतान को लेकर  किसान और नेता का क्या है कहना |

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।



    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad