Header Ads

  • BREAKING NEWS

    Cyclone Nisarga:दोपहर में मुंबई के अली बाग़ में टकराएगा तूफान,मुंबई एलर्ट पर





    We News 24 Hindi »नई दिल्ली 

    अरविन्द कुमार की रिपोर्ट 


    नई दिल्ली: चक्रवाती तूफान निसर्ग महाराष्ट्र और गुजरात के तटों की ओर तेजी से बढ़ रहा है और आज दोपहर में मुंबई से 100 किलोमीटर दूर अली बाग़ में तट से यह तूफान टकराएगा. इस दौरान, 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएँ चल सकती हैं. इससे भू स्खलन की भी आशंका है. 

    मौसम विभाग का कहना है कि 12 घंटे में चक्रवाती तूफान निसर्ग एक विकराल चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा. इस दौरान, भारी बारिश और 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएँ चलेगी. एहतियात बरतते हुए 10,000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है. निसर्ग को लेकर मुंबई एलर्ट पर है. इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी से बात की और उन्हें हर संभव मदद का भरोसा दिया है. 

    ये भी पढ़े-NDRF ने चक्रवाती तूफान निसर्ग से निपटने के लिए चालीस टीमों को तैनात किया

    मामले से जुड़ी अहम जानकारियाँ :
    मौसम विभाग के मुताबिक बीती एक सदी में ये पहला चक्रवाती तूफ़ान (Cyclone Nisarga) है जो महाराष्ट्र के तट से टकराएगा. इससे पहले 1948 और 1980 में दो बार चक्रवाती तूफ़ान उठा था लेकिन वो तट से नहीं टकराया, समुद्र में ही कमज़ोर पड़ गया. अरब सागर में हवा के कम दबाव से बना चक्रवाती तूफान निसर्ग के 3 जून की दोपहर महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों में पहुँचने का अनुमान है. इसके लिए मुम्बई सहित सभी तटीय इलाकों में प्रशासन सतर्क है.


    महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने चक्रवात निसर्ग को देखते हुए लोगों से अगले दो दिनों तक घरों में रहने की अपील की है. उन्होंने कहा कि अगले दो दिनों तक भारी बारिश की आशंका है. उन्होंने लोगों से अपील की है कि अपनी दवाएँ अपने पास रखें, बैटरी को चार्ज करके रखें क्योंकि कहीं-कहीं बिजली काटनी पड़ सकती है. 

    ये भी पढ़े-NDRF ने चक्रवाती तूफान निसर्ग से निपटने के लिए चालीस टीमों को तैनात किया

    मौसम विभाग के अनुसार, चक्रवाती तूफान के असर के दौरान हवा की रफ्तार 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है. इसके असर से मुम्बई, थाणे, पाल घर में तेज़ बारिश होगी. महाराष्ट्र के 750 किलोमीटर लंबे समुद्र किनारे के सभी जिलों में एनडीआरएफ की टीम की तैनाती कर दी गई है. संभावित नुकसान को देखते हुए 16 टीमों को तैनात कर दिया गया है. इसके अलावा, पांच अतिरिक्त टीमें भी बुलाई गई हैं. महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों समेत अन्य जगहों पर एनडीआरएफ की 30 से ज्यादा टीमें तैनात की गई हैं. एक टीम में 45 लोग हैं. 




    अनुमान है कि 3 जून की दोपहर निसर्ग दमन और रायगढ़ जिले में अलीबाग के पास हरिहरेश्वर तट को पार करेगा. इस दौरान तूफ़ानी हवाओं के साथ तेज़ बारिश होने की चेतावनी दी गई. मुम्बई सहित सभी तटीय इलाकों में प्रशासन सतर्क है. कच्चे मकान में रहने वालों को सुरक्षित जगह पर ले जाने का अभियान तेज़ कर दिया गया है.

    ये भी पढ़े-अमेरिकी राष्ट्रपति ने जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए PM मोदी को निमंत्रण दिया ,निमंत्रण से चीन नाराज़

    साइक्‍लोन निसर्ग के चलते मुंबई, इसके उप नगर और पड़ोसी जिले थाणे, पाल घर, रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग को हाईअलर्ट पर रखा गया है. मछुआरों को समंदर से वापस बुलाया गया है. मछुआरों के समंदर में जाने पर रोक लगाई गई है. समंदर में करीब छह फिट ऊंची लहरें उठा सकती हैं.

    Header%2BAid

    Whats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने Mobile में save करके इस नंबर पर Missed Call करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi  और https://twitter.com/Waors2 पर पर क्लिक करें और पेज को लाइक करें।

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad