Header Ads

  • BREAKING NEWS

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच आज सीमा विवाद पर होगी वार्ता

    We News 24 Hindi »चेन्नई.मामल्लपुरम

    मामल्लपुरम:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच शनिवार को होने वाली दूसरी अनौपचारिक वार्ता के नतीजे दोनों देशों के रिश्तों के लिहाज से शुभ रहने के संकेत हैं। चेन्नई से तकरीबन 57 किलोमीटर दूर भारत-चीन के पुराने रिश्तों का गवाह रहे मामल्लपुरम यानी महाबलीपुरम में दोनों नेताओं की शुक्रवार को हुई गर्मजोशी भरी मुलाकात ने कश्मीर की वजह से द्विपक्षीय रिश्तों में घुले तनाव को काफी हद तक कम कर दिया है। शुक्रवार को सिर्फ घरेलू द्विपक्षीय रिश्तों, कारोबार, आतंकवाद, धार्मिक कट्टरता और निवेश संबंधों पर बात हुई।


    आज अंतरराष्ट्रीय मुद्दों और सीमा विवाद पर होगी वार्ता
    शनिवार को अंतरराष्ट्रीय मुद्दों और सीमा विवाद समेत अन्य उलझे मुद्दों पर बातचीत होगी। माना जा रहा है कि दोनों देशों की तरफ से शनिवार को द्विपक्षीय वार्ता के बाद सीमा पर विश्वास बहाली के लिए कुछ ठोस उपायों की घोषणा की जा सकती है।

    यह भी पढ़ें:सुनिए मुख्यमंत्री नितीश कुमार जी आपके सुशासन वाले राज्य में महिला खुले में शौच करने को मजबूर .VIDEO

    रात्रिभोज ढाई घंटे तक चला
    देर रात विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि पांच घंटे तक दोनों नेता साथ रहे जिसमें अधिकांश समय उनके साथ वार्ता में कोई और नहीं था। रात्रिभोज के लिए एक घंटे का समय रखा गया था, लेकिन यह पूरे ढाई घंटे चला।

    रात्रिभोज में दोनों देशों के आठ-आठ अधिकारी शामिल थे

    भारतीय प्रधानमंत्री की तरफ से आयोजित रात्रिभोज में दोनों देशों के विदेश मंत्री, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, विदेश सचिव, एक दूसरे के देश में पदस्थ राजदूत समेत आठ-आठ अधिकारी शामिल थे। लेकिन दक्षिण भारतीय खाने का स्वाद लेते हुए भी मोदी और चिनफिंग की बातचीत चलती रही। इस वार्ता को शनिवार को होने वाली द्विपक्षीय आधिकारिक वार्ता की तैयारी के तौर पर देखा जा रहा है।


    चिनफिंग अगले साढ़े चार साल मोदी के साथ काम करने के इच्छुक

    मोदी और चिनफिंग ने एक दूसरे को अपनी-अपनी सरकारों की प्राथमिकताओं के बारे में भी बताया। राष्ट्रपति चिनफिंग ने प्रधानमंत्री मोदी के साथ अगले साढ़े चार साल बेहद करीबी संबंध रखते हुए काम करने की इच्छा जताई।

    ये भी पढ़े :नदी में नहाने के दौरान एक 20 वर्षीय युवक डूबने से मौत

    कारोबार, आतंकवाद और धार्मिक कट्टरता रही चर्चा का मुख्य केंद्र
    बातचीत में आर्थिक मुद्दों पर खासा समय दिया गया। खास तौर पर निवेश बढ़ाने और द्विपक्षीय व्यापार असंतुलन को दूर करने के उपायों पर दोनों नेताओं ने कई तरह के विकल्पों को खंगाला। आतंकवाद एक दूसरा अहम मुद्दा रहा जिस पर दोनों नेताओं ने समान तौर पर चिंता जताई। खास तौर पर समाज में बढ़ती कट्टरता को रोकने के लिए दोनों देश भविष्य में सहयोग बढ़ाने को भी तैयार हुए।

    यह भी पढ़ें:सीतामढ़ी:जिले में दुर्गापूजा शांतिपूर्ण, सद्भाव व आपसी सौहार्द के साथ संपन्न हुआ

    मोदी और चिनफिंग के बीच 17 बार वार्ता हो चुकी है
    गोखले ने बताया कि द्विपक्षीय स्तर पर मोदी और चिनफिंग के बीच 17 बार वार्ता हो चुकी है जो दोनों नेताओं के बीच बढ़ते भरोसे को व्यक्त करती है। इसके अलावा दो बार अनौपचारिक बातचीत भी हो चुकी है।


    चिनफिंग के साथ 100 सदस्यीय टीम

    इससे पहले दोपहर दो बजे राष्ट्रपति शी चिनफिंग का विमान चेन्नई एयरपोर्ट पर उतरा। उनके साथ 100 सदस्यीय अधिकारियों का दल भी आया है। चेन्नई से मामल्लपुरम की दूरी राष्ट्रपति ने सड़क मार्ग से पूरी की जिसके सुरक्षा इंतजामात में सुरक्षा बलों के तकरीबन 8000 जवान लगे थे।पीएम मोदी और चिनफिंग के बीच आज सीमा विवाद समेत अहम उलझे मुद्दों पर होगी वार्ता
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की यह बातचीत तब हो रही है जब दोनों देशों के बीच कश्मीर मुद्दे पर तल्खी बढ़ गई है।


    जयप्रकाश रंजन, मामल्लपुरम। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच शनिवार को होने वाली दूसरी अनौपचारिक वार्ता के नतीजे दोनों देशों के रिश्तों के लिहाज से शुभ रहने के संकेत हैं। चेन्नई से तकरीबन 57 किलोमीटर दूर भारत-चीन के पुराने रिश्तों का गवाह रहे मामल्लपुरम यानी महाबलीपुरम में दोनों नेताओं की शुक्रवार को हुई गर्मजोशी भरी मुलाकात ने कश्मीर की वजह से द्विपक्षीय रिश्तों में घुले तनाव को काफी हद तक कम कर दिया है। शुक्रवार को सिर्फ घरेलू द्विपक्षीय रिश्तों, कारोबार, आतंकवाद, धार्मिक कट्टरता और निवेश संबंधों पर बात हुई।


    यह भी पढ़ें:पटना जिलाधिकारी ने छठ महापर्व पर 91घाटों की सफाई का दिया निर्देश

    पीएम मोदी कश्मीर मुद्दे को चिनफिंग के समक्ष पेश करेंगे

    देखना होगा कि शनिवार को कश्मीर मुद्दे पर बात होती है या नहीं। भारतीय पक्ष मानता है कि उसे अपनी बात रखने में कोई दिक्कत नहीं है। मोदी स्वयं चिनफिंग को कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की पूरी कहानी बताना चाहेंगे।


    दोनों देशों के बीच कश्मीर मुद्दे पर तल्खी बढ़ी
    सनद रहे कि मोदी और चिनफिंग की यह बातचीत तब हो रही है जब दोनों देशों के बीच कश्मीर मुद्दे पर तल्खी बढ़ गई है। तीन दिन पहले ही पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने बीजिंग में चिनफिंग से मुलाकात की थी। तब चिनफिंग ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के पक्ष का समर्थन किया था। इस पर भारत ने बेहद कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी।

    यह भी पढ़ें:लालगंज आंगनवाड़ी सेविका बहाली में धांधली,प्रयवेक्षिका पर लगा गम्भीर आरोप .देखे वीडियो

    मोदी ने चिनफिंग को दी अर्जुन के तप के बारे में जानकारी
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गाइड की भूमिका निभाते हुए चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग को धनुर्धारी अर्जुन और उनकी तपस्या के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि किस तरह मानव और प्रकृति एक दूसरे के साथ सहज भाव से रह सकते हैं। इस बारे में राष्ट्रपति चिनफिंग ने काफी दिलचस्पी भी ली।


    चिनफिंग ने मामल्लपुरम पर शोध करवाने की इच्छा जताई

    चिनफिंग ने कहा कि वह इस जगह के चीन के साथ जुड़ाव के बारे में जानते हैं और आगे इस बारे में और शोध करवाने की इच्छा रखते हैं। इस संदर्भ में उन्होंने चीन के फुजियान प्रांत में मिले एक मंदिर के अवशेष की भी चर्चा की। उम्मीद है कि दोनों देश इन ऐतिहासिक संबंधों के बारे में संयुक्त तौर पर और जानकारी हासिल करेंगे।

    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad