Header Ads

  • BREAKING NEWS

    Kathmandu: नेपाली प्रधानमंत्री ओली का मानसिक संतुलन बिगड़ा ,भगवान श्री राम की जन्मभूमि के बारे में दिया विवादित बयान

     


    We News 24 Hindi » काठमांडू/नेपाल 

    मिडिया रिपोर्ट


    #International  Nepal News 

    काठमांडू : लगता है नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली शर्मा का कुर्सी जाने के भय से मानसिक संतुलन बिगड़ गया है बीते कई महीनो से वो चीन को खुश करने के लिए भारत विरोधी हवा को गति दे रहे है जिसके तहत वो हर उलटे सीधे दाव भारत के खिलाफ खेल रहे है .अब ओली ने भारत पर बहुत ही बचकाना और बेहूदा आरोप लगया है जो की भारत और भारत वाशी के लिए वर्दाश्त से बहार है .

    ये भी पढ़े-National News:भारत का चीन को सामरिक जवाब, लद्दाख में चीन सीमा तक जाएगी दुनिया की सबसे ऊंची रेल लाइन

    ओली ने इस बार हिंदुओं के आराध्य भगवान श्रीराम की जन्मस्थली अयोध्या को लेकर विवादित ब्यान दिया है । उन्होंने कहा कि भारत ने सांस्कृतिक अतिक्रमण करने के लिए वहां फर्जी अयोध्या का निर्माण कराया। जबकि असली अयोध्या नेपाल के बीरगंज शहर  के पश्चिम में  एक गांव में स्थित है । 
     

    नेपाल को सांस्कृतिक रूप से दबाया गया है : ओली
    कवि भानुभक्त आचार्य की जयंती पर प्रधानमंत्री आवास पर आयोजित एक कार्यक्रम में ओली ने आरोप लगाया कि नेपाल को सांस्कृतिक रूप से दबाया गया है।  उन्होंने कहा, 'हमें सांस्कृतिक रूप से दबाया गया है। तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है। हम अब भी मानते हैं कि हमने भारतीय राजकुमार राम को सीता दी थी। लेकिन हमने भारत की अयोध्या के राजकुमार को सीता नहीं दी थी। असली अयोध्या बीरगंज के पश्चिम में स्थित एक गांव है, न कि वह जिसे अब बनाया गया है।'

    ये भी पढ़े-Bihar News :सामने आया रक्सौल का विकास कनेक्शन, सत्तारूढ़ पार्टी को होगी परेशानी।

    अयोध्या अगर भारत में तो इतनी दूर कैसे आए राम
    अपनी बात को साबित करने के लिए ओली ने सवाल किया कि अगर असली अयोध्या वही है जो भारत में है तो राजकुमार विवाह के लिए इतनी दूर जनकपुर कैसे आ सकते थे। उन्होंने दावा किया कि  ज्ञान-विज्ञान की उत्पत्ति और विकास नेपाल में हुआ। उन्होंने इस पर खेद जताया कि इसे जारी नहीं रखा जा सका। पहले भी भारत पर नेपाल की सीमा पर कब्जा करने का आरोप लगा चुके ओली का यह बयान उनकी भारत के प्रति मानसिकता को दर्शाता है। 



    जमीन से शुरू हुआ विवाद अब आस्था तक पहुंचा
    नेपाल ने हाल ही में अपने नक्शे को संशोधित किया था और भारत के उत्तराखंड के चार इलाकों के नेपाल का होने का दावा किया था। दरअसल, भारत ने लिपुलेख दर्रे को धारचुला से जोड़ने वाली एक रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण सड़क का उद्धाटन किया था। तब से ही ओली सरकार दावा करती आ रही है कि कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा के क्षेत्र नेपाल के हिस्से में आते हैं। इसे लेकर नेपाल की संसद ने नए नक्शे को भी मान्यता दे दी है। 

    ये भी पढ़े-Bihar Champaran News:साइबर बदमाशों का दुस्साहस , मोतिहारी DM के खाते से एक लाख का राशि निकलने का प्रयास..



    ओली भारत पर लगा चुके हैं साजिश रचने का आरोप
    बेसिरपैर के बयान दे रहे ओली की कुर्सी पर संकट पहले से ही मंडरा रहा है। एक तरफ जहां उन्हें पद से हटाने के लिए उनकी ही पार्टी के भीतर घमासान मचा है तो दूसरी ओर देश की जनता भी सरकार के खिलाफ गुस्से में हैं। अपनी पार्टी में मचे घमासान को लेकर ओली ने भारत पर भी आरोप लगाया था। बीते दिनों उन्होंने कहा था कि एक दूतावास उनकी सरकार के खिलाफ होटल में साजिश रच रहा है।

    ये भी पढ़े-Sitamarhi News:सीतामढ़ी लोगो के घरों में घुसा लखनदेई नदी का पानी,लोगो ने ली रेलवे ट्रैक पर शरण,देखे वीडियो


    देश में कोरोना के लिए बताया था भारत को जिम्मेदार
    ओली ने बीते दिनों अपने देश में कोरोना वायरस के प्रसार के लिए भी भारत को जिम्मेदार ठहराया था। ओली ने कहा था कि नेपाल में कोरोना वायरस के कुल मामलों में से 85 फीसदी मामले भारत से आए हैं। ओली ने इससे पहले भी कहा था कि नेपाल को चीन और इटली से आने वाले लोगों से कोरोना का इतना खतरा नहीं है, जितना भारत से आने वाले लोगों से है। भारत ने इस दावे को सिरे से खारिज कर दिया था।

    Header%2BAidWhats App पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 9599389900 को अपने मोबाईल में सेव  करके इस नंबर पर मिस्ड कॉल करें। फेसबुक-टिवटर पर हमसे जुड़ने के लिए https://www.facebook.com/wenews24hindi और https://twitter.com/Waors2 पर  क्लिक करें और पेज को लाइक करें



    WE NEWS 24 AID

    Post Bottom Ad